प्रोटीन – क्या है, स्रोत, फायदे और नुकसान | Protein in Hindi

इस आर्टिकल में पढ़े

प्रोटीन क्या है? | What is protein in Hindi

प्रोटीन हमारे शरीर के लिए जरुरी तीन मैक्रोन्यूट्रिएंट में से एक है। बाकि दो मैक्रोन्युट्रिएंट्स है फैट्स (वसा) और कार्बोहाइड्रेट्स। यह एक ऐसा मैक्रोन्यूट्रिएंट है जो की मांसपेशियों के द्रव्यमान के निर्माण के लिए आवश्यक है। प्रोटीन हमारे शरीर को ताकत देने के लिए बहुत ही आवश्यक है।  हमारे शरीर में बहुत ही अधिक मात्रा में छोटे छोटे सेल होते है और हर सेल में अनेक प्रकार के प्रोटीन होते है। प्रोटीन एमिनो एसिड से बनता है और लगभग 20 प्रकार के एमिनो एसिड्स होते है।

प्रोटीन भारी मात्रा में मासाहारी पदार्थो में पाया जाता है परन्तु कुछ ऐसे शाकाहारी भोजन भी है जैसे की दूध, दही जिन्हे खा कर हम अपने शरीर की प्रोटीन की आवश्यकता पूर्ण कर सकते है।

प्रोटीन के प्रकार | Types of protein in Hindi

यह तीन प्रकार के होते है

  • पूर्ण प्रोटीन (Complete protein): वो प्रोटीन जिनमे की हर प्रकार के एमिनो एसिड मौजूद होते है। यह ज्यादातर मासाहारी पदार्थो में पाया जाता है जैसे की मास्स, अंडे।
  • अधूरे प्रोटीन (Incomplete protein): ऐसे प्रोटीन जिनमे की केवल 1 एमिनो एसिड हो। हरी सब्ज़िया जैसे की फलियां आदि में यह पाया जाता है
  • कॉम्प्लिमेंटरी प्रोटीन (Complementary protein): 2-3 ऐसे अलग-अलग प्रकार के भोजन जिनमे अलग-अलग प्रकार के एमिनो एसिड होते है और इन्हे मिलाकर खाने से हमारे शरीर को आवश्यक मात्रा में प्रोटीन मिल जाता है।

प्रोटीन की आवश्यक मात्रा | How much protein is necessary

एक दिन में आपको कितना प्रोटीन लेना चाहिए यह बहुत सी चीज़ो पर निर्भर करता है जैसे की आपके शरीर का वजन। विशेषयज्ञ मानते है के आपको प्रति किलोग्राम आपके वजन के हिसाब से ०.8 ग्राम प्रोटीन लेना चाहिए। और इसके हिसाब से प्रोटीन की रोज़ाना मात्रा कुछ इस प्रकार होनी चाहिए।

सामान्य पुरुष56  ग्राम
सामान्य महिला46 ग्राम

यह मात्रा छोटे बच्चो, गर्भवती महिला के लिए अलग होती है

9 – 13 साल के बच्चे20 – 35  ग्राम
गर्भवती महिला 71 ग्राम

प्रोटीन के फायदे | Benefits of protein in Hindi

अगर हम सही मात्रा में प्रोटीन लेते है तो इसके बहुत से लाभ है। इससे ना तो केवल हमारा शरीर तंदरुस्त रहता है बल्कि हमारे शरीर में ऊर्जा की कमी भी नहीं होती। इसके और भी बहुत से लाभ है जो की हम निचे विस्तार में बताये गे।

मांसपेशियों के लिए लाभदायी

हमारी मांसपेशियों के लिए बहुत ही ज्यादा लाभदायी और महत्वपूर्ण है प्रोटीन। एक तरह से हम कह सकते है के यह हमारी मांसपेशियों के निर्माण खंड है। यह हमारी मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करते है और उनके आपसी समन्वय के लिए बहुत ही जरुरी है।

मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली

प्रोटीन हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूती प्रदान करते है। हमारी शरीर की जो बाहरी कीटाणुओं से लड़ने की क्षमता होती है, प्रोटीन के उपयुक्त सेवन से वो भी बढ़ जाती है। हमारा शरीर बाहरी कीटाणुओं से लड़ने के लिए एंटीबाडीज का उत्पाद करते है। यह एंटीबाडीज एक तरह के प्रोटीन ही होते है जो की बाहरी कीटाणुओं से लड़ने में सक्षम होते है।

मजबूत हड्डियां

हमारे शरीर के अंदर एक कोलेजन (collegen) नाम का प्रोटीन होता है जो की हमारी हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है। जो व्यक्ति अक्सर व्यायाम या कोई खेल खेलते है उनके लिए प्रोटीन पूर्ण मात्रा में लेना बहुत ही आवश्यक हो जाता है। collegen से क्या होता है के हमारी हड्डियों के जोड़ भी मजबूत रहते है।

अच्छी और तंदरुस्त त्वचा

जैसा की ऊपर बताया collegen नाम के प्रोटीन के बारे में, वो केवल हड्डियां ही मज़बूत नहीं करता बल्कि हमारी त्वचा के ऐसे ऊतक (tissues) जो ख़राब हो जाते है उनकी भी मरम्मत करता है।

स्वस्थ बाल

प्रोटीन हमारे बालों को स्वस्थ रखता है और इन्हे क्षति (damage) से भी बचाता है। प्रोटीन की इन्ही खूबियों की वजह से यह बहुत से बाल देखभाल उत्पादों में भी इस्तेमाल होता है।

ऊर्जा प्रदान करता है

प्रोटीन हर रोज़ सही मात्रा में लेना बहुत ही आवश्यक है। इससे हमारे शरीर में ऊर्जा बनी रहती है और हमारा शरीर तंदरुस्त रहता है। जो लोग ऐसी डाइट लेते है जिसमे की प्रोटीन की कमी हो उनको अक्सर ऊर्जा की कमी महसूस होती है।

प्रोटीन के नुकसान | Side effects of protein in Hindi

जहाँ प्रोटीन हमे इतने फायदे देता है वही इसकी कमी के कारण या इसके ज्यादा खाने से हमे नुकसान भी हो सकता है। आइए इसके बारे में विस्तार में जानते है।

प्रोटीन की कमी

प्रोटीन से भरी डाइट लेना और जरुरी मात्रा में लेना बहुत ही आवश्यक है। हमारा शरीर प्रोटीन को स्टोर नहीं करता, तो इसकी जरुरत रोज़ खाने वाले पदार्थो से ही पूरी होती है। इसकी कमी के कारण हमे कई तरह के रोग हो सकते है जैसे के रक्ताल्पता (anemia)।

वजन बढ़ना

अक्सर हमे वजन काम करने के लिए कम कार्बोहाइड्रेट्स और ज्यादा प्रोटीन वाली डाइट बताई जाती है। परन्तु यदि हम इस पर पूरा ध्यान नहीं देंगे और इस डाइट को अधिक मात्रा में खाने से हमारे अंदर फैट बढ़ना शुरू हो जाये गा। ऐसा इसलिए होता है क्युकी एमिनो एसिड्स (amino acid), जिनसे प्रोटीन बनता है, वो फैटी एसिड (fatty acid) में बदलना शुरू हो जाते है।

दिल की बीमारी

ज्यादा मात्रा में प्रोटीन वाली डाइट लेने से कई बार हमारे दिल की सेहत पर असर पड़ता है। यदि आप ऐसी डाइट ले रहे है तो ध्यान रहे के जितना आवश्यक है उतना ही ले।

प्रोटीन के स्रोत | Sources of protein in Hindi

प्रोटीन हमे बहुत से उत्पादनो से मिल सकता है, कुछ मुख्य उत्पादन निचे लिखे है

मासाहारीमास, मछी, अंडे
शाकाहारीदुग्ध उत्पाद जैसे दूध, दही और पनीर। सोया उत्पाद

मासाहारी भोजन में सबसे ज्यादा प्रोटीन की मात्रा होती है।

समापन नोट

प्रोटीन हमारे शरीर के लिए बहुत ही आवश्यक है परन्तु इसकी सही मात्रा का आपको ध्यान रखना चाहिए। यदि आप किसी वजन घटाने वाली डाइट को ले रहे है तो याद रहे की प्रोटीन की मात्रा जितनी बताई गयी हो उतनी ही ले, उससे ज्यादा नहीं।

यदि इस आर्टिकल में दी गयी जानकारी आपके लिए उपयोगी रही तो आप जरूर इस आर्टिकल को अपने सभी मित्रों के साथ शेयर करे। यदि आपका कोई प्रशन है तो आप हमे निचे कमेंट करके पूछ सकते है।

स्वस्थ रहे, मुस्कुराते रहे और स्वास्थ्य टिप्स हिंदी में पाने के लिए हमारे नए आर्टिकल्स जरूर पढ़े।